Join us?

देश

भारत आज ईरान के साथ एक महत्वपूर्ण समझौते पर हस्ताक्षर करेगा

नई दिल्ली। यह पहली बार होगा कि भारत विदेश में किसी बंदरगाह का प्रबंधन अपने हाथ में लेगा। चुनावी मौसम के बीच आज भारत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ईरान के साथ एक महत्वपूर्ण समझौते पर हस्ताक्षर करेगा।

ये खबर भी पढ़ें : Payal Kapadia’s movie trailer released

दरअसल, पाकिस्तान और चीन की टेंशन बढ़ाने के लिए भारत सोमवार को ईरान के साथ चाबहार पोर्ट के प्रबंधन से जुड़े समझौते पर मुहर लगाएगा। इसके लिए केंद्रीय बंदरगाह और जलमार्ग मंत्री सर्बानंद सोनोवाल सोमवार को ईरान के लिए रवाना हो गए है। जानकारी के लिए बता दें कि इस समझौते के बाद भारत अगले 10 सालों तक चाबहार बंदरगाह का प्रबंधन संभालेगा। यह रणनीतिक मास्टरस्ट्रोक कराची के साथ-साथ पाकिस्तान में ग्वादर बंदरगाहों को दरकिनार करते हुए, ईरान के माध्यम से दक्षिण एशिया और मध्य एशिया के बीच एक नया व्यापार मार्ग खोलेगा।

ये खबर भी पढ़ें : कामी रीता शेरपा ने 29वीं बार माउंट एवरेस्‍ट फतह किया

कनेक्टविटी के मामले में अफगानिस्तान, मध्य एशिया और यूरेशियन क्षेत्रों के बीच चाबहार पोर्ट काफी अहम साबित होगा।  चाबहार पोर्ट ऑपरेशंस का अनुबंध इस क्षेत्र में भारत की बढ़ती समुद्री पहुंच की एक और बड़ी उपलब्धि होगी। शिपिंग मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने ठीक एक साल पहले -मई 2023 में म्यांमार में सिटवे बंदरगाह का उद्घाटन किया था। बता दें कि दोनों का ही उद्देश्य क्षेत्र में बढ़ती चीनी उपस्थिति को बेअसर करना है।

ये खबर भी पढ़ें : Side Effects Of Pista: पिस्ता खाने से होते हैं ये नुकसान

भारत का लक्ष्य सीआईएस (स्वतंत्र राज्यों के राष्ट्रमंडल) देशों तक पहुंचने के लिए चाबहार बंदरगाह को अंतरराष्ट्रीय उत्तर-दक्षिण परिवहन गलियारे के तहत एक ट्रांजिट हब बनाना है। आईएनएसटीसी भारत और मध्य एशिया के बीच माल की आवाजाही को किफायती बनाने का भारत का विजन है।

ये खबर भी पढ़ें : सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सीन लूंग 15 मई को अपना पद छोड़ेंगे

चाबहार बंदरगाह इस क्षेत्र के लिए एक कमर्शियल ट्रांजिट सेंटर के रूप में काम करेगा। जानकारी के लिए बता दें कि आईएनएसटीसी एक मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्टेशन रूट है जो हिंद महासागर और फारस की खाड़ी को ईरान के माध्यम से कैस्पियन सागर और रूस में सेंट पीटर्सबर्ग के माध्यम से उत्तरी यूरोप तक जोड़ता है।इस जनवरी की शुरुआत में, विदेश मंत्री एस जयशंकर और ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रायसी ने चाबहार बंदरगाह विकास योजना सहित ईरान-भारत समझौतों के कार्यान्वयन में तेजी लाने और अधिक क्षतिपूर्ति करने पर चर्चा की थी।

ये खबर भी पढ़ें : रिजर्व ईवीएम एवं वीवीपेट के लिए अस्थायी स्ट्रांग रूम बनाया गया है : जिला निर्वाचन अधिकारी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button