Join us?

व्यापार

सोने की कीमत में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आई गिरावट

नई दिल्ली। शुक्रवार को वैश्विक स्तर पर सोने की कीमतों में 2% से अधिक की गिरावट आई, जिसके पीछे दो मुख्य कारण थे। पहला अमेरिका में उम्मीद से अधिक रोजगार वृद्धि और चीन द्वारा सोने की खरीद में ठहराव आना।
अमेरिका में रोजगार वृद्धि
बेंचमार्क सोने का वायदा 2.43% की गिरावट को दर्शाते हुए 2,332.85 अमेरिकी डॉलर प्रति औंस पर आ गया। विश्लेषकों ने इस गिरावट का श्रेय मजबूत अमेरिकी रोजगार आंकड़ों को दिया, जो फेडरल रिजर्व द्वारा संभावित ब्याज दरों में कटौती में मंदी का संकेत दे सकते हैं। कम ब्याज दरें आम तौर पर सोने को निवेशकों के लिए अधिक आकर्षक बनाती हैं, जो एक गैर-उपज वाली संपत्ति है।

चीन की खरीद में रुकावट

चीन के केंद्रीय बैंक ने कथित तौर पर मई में अपने सोने के भंडार में वृद्धि करना बंद कर दिया, इस कदम ने लगातार 18 महीनों की खरीद का सिलसिला तोड़ दिया। एक प्रमुख खरीदार द्वारा इस रुकावट ने निवेशकों की भावना को और कमजोर कर दिया कीमत में गिरावट सोने के लिए एक महत्वपूर्ण तेजी के बाद मामूली सुधार को दर्शाती है। हाल ही में आई गिरावट के बावजूद, सोने की कीमतें इस साल अब तक लगभग 15% अधिक बनी हुई हैं।
भू-राजनीतिक तनाव और केंद्रीय बैंक की मांग
सोने की कीमत में उछाल के लिए कई कारकों को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है, जिसमें पश्चिमी एशिया में लंबे समय तक भू-राजनीतिक तनाव, केंद्रीय बैंक की खरीद (भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा खरीद सहित) और निरंतर भौतिक मांग शामिल है। सोने की कमी इसे आपूर्ति और मांग असंतुलन के प्रति अत्यधिक संवेदनशील बनाती है, जिससे संभावित रूप से कीमतों में तेज उतार-चढ़ाव हो सकता है। अपने अंतर्निहित मूल्य के साथ, सोना ऐतिहासिक रूप से एक सुरक्षित आश्रय संपत्ति के रूप में काम करता है, खासकर आर्थिक या राजनीतिक उथल-पुथल के दौरान। हालांकि, हाल ही में कीमतों में गिरावट के कारण 2024 के लिए विश्व स्वर्ण परिषद के शुरुआती पूर्वानुमान में संशोधन की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन इस साल सोने के मजबूत प्रदर्शन की संभावना बनी हुई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button