Join us?

मध्यप्रदेश

MP NEWS: खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में मध्यप्रदेश के बढ़ते कदम

भोपाल । देश के 10प्रतिशत क्षेत्रफल वाले राज्य मध्यप्रदेश में देश की लगभग 7 प्रतिशत आबादी निवास करती है। यहां 11 कृषि-जलवायु क्षेत्रों में विभिन्न फसलों का उत्पादन किया जाता है। राज्य की कृषि उपज में विविधता मुख्यत: नर्मदा नदी और उसकी सहायक नदियों पर निर्भर है। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव के मार्गदर्शन में वर्तमान सरकार सरल नीतियों के माध्यम से ‘ईज ऑफ डूइंगबिजऩेस’ सुनिश्चित करने का प्रयास कर रही है, जिससे कृषि और खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में मध्यप्रदेशनवाचार और प्रगति के नए अध्याय लिख रहा है। ‘भारत की फूडबास्केट’ कहलाने वाला मध्यप्रदेश पारंपरिक प्रथाओं को अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी से जोड़कर देश के कृषि क्षेत्र को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।
मध्यप्रदेश कृषि प्रधान राज्य है और कृषि का राज्य के जीएसडीपी में 47प्रतिशत का योगदान है, जो सरकार द्वारा की गई पहल का प्रमाण है। आर्टिफिशियलइंटेलिजेंस (एआई) सहित स्मार्ट खेती तकनीकों को अपनाकर राज्यडिजिटल खेती क्रांति की ओर अग्रसर है। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव के दूरदर्शी नेतृत्व में, सरकार सक्रिय रूप से किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) का डिजिटलीकरण और कृषि आपूर्ति श्रृंखला का आधुनिकीकरण कर रही है। सरकारी पहल के साथ डिजिटल खेती पर केंद्रित स्टार्ट-अपके आने से विकास के लिए महत्वपूर्ण ईकोसिस्टमका निर्माण हो रहा है। बेहतर बीज गुणवत्ता, उर्वरक निर्माण, कृषि मशीनरी और सिंचाई परियोजनाओं पर रणनीतिकफोकस के साथ, मध्यप्रदेश खेती के क्षेत्र में प्रचुर निवेश के अवसर प्रदान करता है।
मध्यप्रदेश ‘कृषि कर्मण पुरस्कार’ का 7 बार विजेता है – यह पुरस्कार खाद्यान्न उत्पादन में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले भारतीय राज्य को दिया जाता है। मध्यप्रदेश भारत में संतरा, मसाले, लहसुन, अदरक, चना और दालों का सबसे बड़ा उत्पादक है। राज्य में जैविक उपज और बागवानी उत्पादन के लिए खेती का उच्च क्षेत्र है। राज्य फल, लहसुन, टमाटर, हरी मटर, अमरूद, हरी मिर्च और प्याज का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है और नींबू, गोभी और फूल और दूध सहित खट्टे फलों का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक है। मध्यप्रदेश शरबतीगेहूं का सबसे बड़ा उत्पादक और निर्यातक है, जिसे भारत में गेहूं की उच्चतम गुणवत्ता माना जाता है। केवल6 वर्षों में राज्य की बागवानी उत्पादन रैंकछठवें स्थान से प्रथम पर पहुंच गयी है। वैश्विक खाद्य प्रसंस्करण बाजार, जिसका मूल्य 2021 में $134.21बिलियन है, के 2030 तक 11.82त्नसीएजीआर से बढऩे का अनुमान है, जिसमें एशिया-प्रशांत क्षेत्र, विशेष रूप से भारत, चीन, इंडोनेशिया और मलेशिया महत्वपूर्ण वैश्विक विकास को बढ़ावा देंगे। अपने समृद्ध कृषि संसाधनों और रणनीतिक स्थान के साथ, भारत ने अपने खाद्य प्रसंस्करण उद्योग में तेजी से वृद्धि देखी है, जिसने 2022 में 866बिलियन डॉलर के बाजार आकार में योगदान दिया है, जो देश के आर्थिक विस्तार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए तैयार है।
खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में, मध्यप्रदेश अपने समृद्ध कृषि संसाधन और रणनीतिक भौगोलिक स्थिति का उपयोग करके एक प्रमुख खिलाड़ी बन गया है। राज्य का खाद्य प्रसंस्करण उद्योग, 8.3त्न की औसत वार्षिक दर से बढ़ रहा है, जो देश की आर्थिक वृद्धि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए तैयार है। उद्योग-अनुकूल नीतियों के प्रति राज्य की प्रतिबद्धता ने मोंडेलेज, आईटीसी और यूनिलीवर जैसे दिग्गजों से बड़े निवेश को आकर्षित किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button