Join us?

विदेश

अंतरिक्ष से कैसा दिखता है ‘राम सेतु’? यूरोपीय एजेंसी ने साझा की तस्वीर

नई दिल्ली। यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने भारत के राम सेतु की तस्वीर अपने कॉपरनिकस सेंटिनल-2 उपग्रह से ली और इसे एक्स अकाउंट पर साझा किया है। यह तमिलनाडु के रामेश्वरम से श्रीलंका के मन्नार द्वीप तक फैला हुआ चूना पत्थर का स्ट्रक्चर है।

ये खबर भी पढ़ें : NEET, NET को लेकर केंद्र सरकार की हाई लेवल मीटिंग

इसे एडम ब्रिज के नाम से भी जाना जाता है। राम सेतु के कारण समुद्र का बड़ा हिस्सा ( हिंद महासागर) दो हिस्सों में बंटा है, एक दक्षिण में मन्नार की खाड़ी में दूसरा उत्तर में पाक जलडमरूमध्य है।

ये खबर भी पढ़ें : Unsecured Lending पर आरबीआई गवर्नर ने दिया बयान

भारत के दृष्टकोण से इसका धार्मिक महत्व भी है। भारत के पौराणिक ग्रंथों के अनुसार राम सेतु को भगवान राम ने अपने सेना की सहायता से बनाया था।

ये खबर भी पढ़ें : क्या है विटामिन डी और इनफर्टिलिटी में कनेक्शन

वहीं, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि 15 वीं सदी तक राम सेतु चलने लायक था लेकिन बाद में समुद्री तूफानों के कारण यह जगह जगह से कट गया।

ये खबर भी पढ़ें : Audit of all 102 ambulances operated in Sarguja

रामसेतु का इतिहास

रामसेतु भारत के दक्षिण-पूर्वी तट पर रामेश्वरम और श्रीलंका के उत्तर-पश्चिमी तट के पास मन्नार द्वीप के बीच 48 किलोमीटर की लंबाई में है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार रावण से युद्ध करने के लिए भगवान राम और उनकी सेना द्वारा लंका पहुंचने के लिए समुद्र पर इसे बनाया गया था। सेतुसमुद्रम शिपिंग नहर परियोजना के चलते इस सेतु के कुछ हिस्से को तोड़े जाने की भी योजना थी।

ये खबर भी पढ़ें : निगम एमआईसी ने 11 अधिकारियों, कर्मचारियों की चिकित्सा प्रतिपूर्ति राशि की स्वीकृति

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button