Join us?

छत्तीसगढ़

CG NEWS: स्मार्ट सिटी में गड़बड़ियों की होगी जांच, गलत ढंग से काम करने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई

रायपुर । विधानसभा में आज स्मार्ट सिटी में भ्रष्टाचार का मुद्दा उठा। ध्यानाकर्षण में राजेश मूणत ने अपात्र को काम देने और भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि स्मार्ट योजना के कामों में करोड़ों रुपए की राशि की बंदरबांट की गयी है। बगैर दक्षता देखे ही, मिलीभगत कर स्मार्ट सिटी का काम दे दिया गया। कई गैर जरूरी कामों को कर दिया गया। उन्होंने इस मामले में राज्य सरकार से जांच की मांग की। जवाब में मंत्री ओपी चौधरी ने कहा कि सभी काम दक्षता देखने के बाद दिए गए हैं। प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसल्टेंसी के परीक्षण के बाद ही स्मार्ट सिटी के लिए कामों का वर्क आर्डर जारी किया गया है। इस पर राजेश मूणत ने कहा कि रायपुर स्मार्ट सिटी के कामों में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार किया गया है। कई ऐसी कंपनियों को काम दिया गया, जिन्हें उन मामलों की विशेषज्ञता ही नहीं थी। उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच करायी जाये, तो बड़े पैमाने पर गड़बडिय़ां सामने आयेगी। भाजपा विधायक की मांग पर वित्त मंत्री ने सदन में जांच की घोषणा की। वित्त मंत्री ने कहा कि साइंस कॉलेज चौपाटी के संबंध में भी जांच की जायेगी। साथ ही चौपाटी हटाने के संबंध में नगरीय प्रशासन विभाग से चर्चा की जायेगी। मंत्री ओपी चौधरी ने सदन में कहा कि स्मार्ट सिटी की गड़बडिय़ों की जांच होगी, साथ ही गलत ढंग से काम करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी।
आवासीय विद्यालयों में अनियमितता के मुद्दे पर सत्ता पक्ष ने ही सरकार को घेरा
छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज प्रदेश के आवासीय विद्यालयों में अनियमितता का मामला जोर शोर से उठा । सत्ता पक्ष के ही विधायक ने अपनी सरकार को घेरते हुए जांच कराकर दोषियों पर कार्रवाई की मांग की । इस पर विभागीय मंत्री रामविचार नेताम ने स्वीकार किया कि आवासीय विद्यालय में अव्यवस्था और अनियमितता है, उन्होंने सदन को भरोसा दिलाया कि जांच कराकर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करेंगे।
भाजपा विधायक मोतीलाल साहू ने प्रश्नकाल में यह मामला उठाते हुए कहा कि अनुसूचित क्षेत्र के बच्चों को बेहतर शिक्षा के लिए प्रदेश में आवासीय विद्यालय खोले गए थे जहां 2012 से 2018 तक दसवीं, बारहवी परीक्षाओं के परिणाम शत प्रतिशत आ रहे थे। 2019 से 2023 तक परिणाम में काफी गिरावट आई है। इसका कारण यहां होने वाली शिक्षकों की भर्ती में अनियमितता है, क्योकी यहां राजनैतिक दलों से जुड़े अपात्र लोगों की नियुक्ति कर दी गई है, जिसका असर परीक्षा परिणाम पर पड़ा है। बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ करने वाले दोषियों पर कार्रवाई की मांग भाजपा सदस्य ने की। अपने जवाब में आदिम जाति विकास मंत्री रामविचार नेताम ने स्वीकार किया कि आवासीय विद्यालय में शिक्षा का स्तर गिरा है इसके लिए जो भी जिम्मेदार अधिकारी होगा उस पर कड़ी कार्रवाई करने की घोषणा सदन में की।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button